ट्रेंच विधि अपनाकर किसान कर सकते हैं तीन गुना गन्ने का उत्पादन

बलरामपुर:ट्रेंचविधिसेगन्नेकीखेतीकरकिसानतीनगुनाउत्पादनमेंवृद्धिकरआत्मनिर्भरबनसकतेहैं।यहआधुनिकएवंवैज्ञानिकविधिहै।इसेअपनानेसेजीवनमेंखुशहालीआसकतीहै।इससेअधिकलाभप्राप्तकरआर्थिकस्थितिसुदृढ़कीजासकतीहै।आधुनिकविधिसेनालीकीखोदाईट्रेंचमशीनसेकीजातीहै।मशीनबाजारमें18से22हजाररुपयेकेबीचउपलब्धहै।इसपरचीनीमिलें50प्रतिशतअनुदानकिसानोंकोदेतीहै।

-खेतकीसिचाईकरजोताईयोग्यहोजानेपरकल्टीवेटरवरोटावेटरसेजोताईकीजातीहै।मिट्टीभुरभुराहोजानेपरट्रेंचमशीनसेनालीबनाए।एकनालीसेदूसरेनालीकीदूरीचारफिटहोनीचाहिए।नालीबनजानेपरपहलेनालीमेंगोबरकीखादवउर्वरकडाले।गन्नाबीजकीछिलाईकरकेदोआंखवालेटुकड़ेकाटलें।बोआईकरनेसेपहलेकाटेगएगन्नेकेटुकड़ेकोजमावव‌र्द्धकएग्लालघोलमेंडुबोकरशोधनकरें।उसकेबादटुकड़ेकोनालीमेंबेड़ारखे।एकटुकड़ेसेदूसरेटुकड़ेकेबीच30सेंटीमीटरकीदूरीहोनीचाहिए।यदिखेतमेंदीमकलगरहेहो,तोकीटनाशकक्लोरीपायरीफासदवाडाले।गन्नेकेबीजकासहीचयनकरें।उन्नतशीलऔरअधिकउत्पादनदेनेवालेस्वीकृतप्रजातिकेगन्नेकीबोआईकरें।खराबवरोगीगन्नेकीबोआईनकरें।जिसखेतमेंपहलेरेडराट(लालसड़न)रोगकाप्रकोपरहाहो,पुन:उसखेतोंमेंगन्नेकीबोआईनकरें।क्योंकिइससेपूरागन्नारोगग्रसितहोसकताहै।टॉपड्रेसिग:

-गन्नेकापौधाएकफिटहोजानेपरसिचाईकरें।सिचाईकरनेकेबाद100से120किलोग्रामयूरियाप्रतिहेक्टेयरकेहिसाबसेगन्नेमेंछिड़कावकरें।आखिरीटॉपड्रेसिगजूनमेंबरसातशुरूहोनेसेपहलेकीजानीचाहिए।जिम्मेदारकेबोल:

-जिलागन्नाअधिकारीआरएसकुशवाहानेबतायाकिट्रेंचविधिसेगन्नेकीबोआईवउचितदेखरेखकरें2200क्विटलप्रतिहेक्टेयरगन्नेकाउत्पादनकियाजासकताहै।जोसामान्यबोआईसेकरीबतीनगुनाअधिकहै।इसविधिसेगन्नेकीबोआईकरकेकिसानअधिकउत्पादनकेसाथअधिकलाभप्राप्तकरसकतेहैं।इसकेलिएकिसानोंकोजागरूककियाजारहाहै।