'साथ' से 35 हजार महिलाओं के लिए खुलेंगे रोजगार के अवसर

राज्यब्यूरो,जम्मू:ग्रामीणमहिलाओंकोआर्थिकरूपसेसशक्तबनानेऔरउनकेविकासकेलिए'साथ'कार्यक्रमशुरूकियागयाहै।इसकेतहतमहिलाओंकेस्वयंसहायतासमूहोंकीसहायताकीजारहीहै।उपराज्यपालमनोजसिन्हानेकार्यक्रमकोएकसितंबरकोशुरूकियाथा।इसपहलसेजम्मूकश्मीरमें35हजारमहिलाओंकेलिएरोजगारकेअवसरखुलेंगे।'साथ'कार्यक्रमकेतहतग्रामीणक्षेत्रकीमहिलाउद्यमियोंकोराष्ट्रीयऔरअंतराष्ट्रीयस्तरपरव्यापारकोबढ़ानेकेलिएसलाहऔरसमर्थनदियाजाएगा।जम्मूकश्मीररूरललाइवलीहुडमिशनकीमिशननिदेशकडा.सैयदसहरिशअसगरनेकहाकिअभीतकप्रदेशमें8085महिलाओंनेकार्यक्रमकेतहतआवेदनकियाहै।सबसेअधिकआवेदनबारामुलाजिलेसेमिलेहैं।जम्मूसंभागमेंडोडाजिलेमेंसबसेअधिकआवेदनमिलेहैं।उन्होंनेकहाकि500उद्यमी,जिनमें244जम्मूऔर256कश्मीरसेहैं,उन्हेंक्षमतानिर्माणकार्यक्रमकेलिएचुनागयाहै।डा.सहरियानेबतायाकि95फीसदआवेदकोंनेराज्यकेभीतरकामकरनेकीजानकारीदीहै,जबकिपांचफीसदनेराष्ट्रीयस्तरपरकामकरनेकेबारेमेंकहाहै।45फीसदआवेदकोंनेकहाकिअगरउन्हेंसहीसहयोगदियाजाएगातोवे27हजारसेअधिकआवेदकोंकोरोजगारदेसकतेहैं।प्रतिग्रामीणउद्यममेंऔसतन7.5फीसदसंभावितनौकरियोंकासृजनहोगा।शेष55फीसदआवेदकोंनेप्रतिउद्यमदोव्यक्तियोंकीनईरोजगारसृजनक्षमताकेबारेमेंजानकारीदीहै।इससेजम्मूकश्मीरमें35हजारसेअधिकग्रामीणमहिलाओंकोरोजगारमिलेगा।उन्होंनेकहाकिग्रामीणमहिलाओंकेसशक्तीकरणकेलिएप्रदेशसरकारकीयहअनूठीपहलहै।महिलाएंभीइसपरसकारात्मकरुझानप्रकटकररहीहैं।